Tag: Hindi poetry

आज मे फिर अपने देश हो आया हुँ!

आज में फिर अपने देश हो आया हुँ।।कोरोना काल में भी अपनी मिट्टी से ख़ुशबू ले आया हुँ।।ना जाने इस मिट्टी में कितने दिन खेले थे।हर दिन का आज में हिसाब कर आया हुँआज में फिर अपने देश हो आया हुँ।। उस ने कहा मत जाओ।। कुछ ने कहा रुक जाओ।अभी कोरोना का ख़तरा टला…

Read more आज मे फिर अपने देश हो आया हुँ!

सन्नाटा छाया है , घौर सन्नाटा छाया है। कोरोना आया है ।।

कोरोना के आतंक से चारों और मौत का साया है।
सुनी गलियाँ, बंद दुकाने और घर के दरवाज़े,
सन्नाटा छाया है , घौर सन्नाटा छाया है।
By Kunal Jain

Read more सन्नाटा छाया है , घौर सन्नाटा छाया है। कोरोना आया है ।।

मेरा वो मकान रोज़ कई सवाल करता है!

कुछ दिन हुए मुझे सपने में मेरा वो मकान दिखाई दिया,जिसमें कभी मेने वो बचपन गुज़ारा था। जिसका जिकरा मेने शायद आज तक किसे से नहीं किया। उस मकान की ऊपर वाली मंज़िल पर अब कोई नहीं रहता ।                       माँ से बात हुई तो…

Read more मेरा वो मकान रोज़ कई सवाल करता है!

Freedom

उड़ने दो परिंदों को की उन्हें पूरा जहाँ नापना है । आकाश थोड़ा छोटा है, मगर उम्मीदों को पंख लगे है , उन्हें उड़ना है । इस जहाँ से परे एक और जहाँ है उसे थोड़ा सा झुकना है ।।। उड़ने दो इस परिंदे को की इसे पूरा आकाश नापना है इस जहाँ से परे…

Read more Freedom