Author Archives

Kunal Jain View All →

Made in India, Serving Humanity, Living in Safety Harbor Florida, USA. Healthcare Entrepreneur. Author ”A Philanthropist Without Money” Driven by an inherent desire for knowledge and creative thinking, I harnessed my “Mid Life” energies to becoming a student again, challenging myself to take an executive course in ‘Global Healthcare Innovation’ from Harvard Business School and a Master’s degree in Entrepreneurship from the University of South Florida. Not satisfied with personal success alone, now I’m on a mission to help other aspiring entrepreneurs through mentoring, nurturing, raising funding, and connecting people with more possibilities.

आभास का १८ वाँ और दैवित का पहला जन्मदिन

मेरे घर के आँगन में दो पोधे बड़े हो रहे हे। देखों आज दोनो पे एक एक फूल आया हे। एक का नाम आभास हे जिसका कद थोड़ा बड़ा हे,  लगता हे की अपने आप से ही बढ़ा हे।  पिछले १८ बरसों से पता ही नहीं चला कि घर के आँगन में कहा खड़ा हे। …

Read more आभास का १८ वाँ और दैवित का पहला जन्मदिन

Happy Birthday To me!

What a year it's been. But today, as I turn 47, I am ever more grateful for being here, for having the life I have. The last six months, despite the staggering odds, reminded me that when 'going gets rough, the tough get going.'

Read more Happy Birthday To me!

आज मे फिर अपने देश हो आया हुँ!

आज में फिर अपने देश हो आया हुँ।।कोरोना काल में भी अपनी मिट्टी से ख़ुशबू ले आया हुँ।।ना जाने इस मिट्टी में कितने दिन खेले थे।हर दिन का आज में हिसाब कर आया हुँआज में फिर अपने देश हो आया हुँ।। उस ने कहा मत जाओ।। कुछ ने कहा रुक जाओ।अभी कोरोना का ख़तरा टला…

Read more आज मे फिर अपने देश हो आया हुँ!

Father’s Day Decoded in a podcast and a Poem!

This podcast was recorded Live from Father's Day Event produced online by me presenting Three Fathers from Diverse Backgrounds and One comedian Dan Nainan followed by a Hindi Poem.
पिता का साया माँ के आँचल से बहुत बड़ा था।
इसीलिए शायद में पिता के काफ़ी क़रीब खड़ा था।

Read more Father’s Day Decoded in a podcast and a Poem!